Earendel Most Distant Star Discovered: जेम्स वेब ने खोले राज!

earendel most distant star discovered

आज कि हमारी यह पोस्ट Earendel Most Distant Star Discovered पर होने जा रही है। हाल ही में जेम्स वेब स्पेस टेलिस्कोप ने इस तारे पर दुबारा नजर मारी और बहुत कुछ ऐसा पता लगाया जिसको लेकर हम अबतक अनजान थे। मार्च साल 2022 में, खगोलविदों ने हबल स्पेस टेलीस्कोप द्वारा ली गई इस Image के जरिये अबतक के सबसे दूर दिखाई दिए तारे की खोज की घोषणा की थी।

उन्होंने इसका नाम Earendel (WHL0137-LS) रखा था, जिसका old English में मतलब “morning star” होता है। अब, JWST के Near-infrared Camera (NIRCam) और इसके NIRSpec spectrometer के जरिये वैज्ञानिकों ने इसी तारे पर जब दुबारा से नज़र डाली, तो इसके बारे में हम और ज्यादा जान पाने में सक्षम हो पाए।

JWST Findings On Earendel Star

जेम्स वेब के नतीजों से पता चला है कि Earendel एक विशाल B-type तारा हो सकता है। यह इसे विकासात्मक रूप से Main Sequence श्रेणी में रखता है, जिसका मतलब है कि हम तक पहुंची जिस वक्त की रोशनी में हम इस तारे को देख रहे हैं, उस समय में यह अपनी कोर में हाइड्रोजन को जला रहा था।

earendel most distant star discovered

हमारे सूर्य की तुलना में यह Earendel तारा दोगुना गर्म और लाखों गुना अधिक चमकीला है। खगोलविदों को लगता है कि इस तारे का, इसके जैसे कई दुसरे विशाल तारों की तरह, एक साथी तारा हो सकता है। हालाँकि, वे एक-दूसरे के इतने करीब हैं और हम उन्हें इतनी बड़ी दूरी (लगभग 13 बिलियन प्रकाश-वर्ष) पर देख रहे हैं, कि उन्हें अलग से पहचानना या देख पाना कठिन है।

हालाँकि, इस तारे का स्पेक्ट्रा (यानी इसके प्रकाश के रंग) संकेत देते हैं कि इसका एक साथी तारा भी मौजूद है। gravitational lens द्वारा हुए magnification के साथ-साथ Jame Webb Space Telescope पर लगे NIRCam (Near Infrared Camera) का उपयोग करके अधिक गहराई से observations करके, आगे के अध्यनों से वैज्ञानिकों को इसके साथी तारे को उजागर करने में और मदद मिलेगी।

Earendel तारे से जो प्रकाश हम आता हुआ देख रहे हैं वह बिग बैंग के लगभग 900 मिलियन वर्ष (90 करोड़ वर्ष) बाद, पहली बार उस तारे से उत्सर्जित हुआ था। gravitational lens के जरिए जो प्रकाश हम तक पहुंच रहा है वह इस तारे के प्रकाश को 4000 गुना तक बढ़ा कर दिखा रहा है।

earendel most distant star discovered

अब, खगोलवैज्ञानिक यह जानना चाहते हैं कि क्या यह चमकने वाले सितारों की पहली पीढ़ी जिन्हें Population III Stars कहा जाता है, क्या उनमे से एक हो सकता है? अगर ऐसा है, तो इसका स्पेक्ट्रा इसकी रासायनिक संरचना को मुख्य रूप से सिर्फ हाइड्रोजन और हीलियम के रूप में ही दिखायेगा क्यूंकि ब्रह्मांड कि शुरुवात में ये पहले कुछ तारे सिर्फ और सिर्फ हाइड्रोजन और हीलियम से ही बने थे। इसकी वजह यही है कि हमारा शुरुवाती ब्रह्मांड उस दौरान हाइड्रोजन और हीलियम से भरा पड़ा था।

और अगर यह दूसरी पीढ़ी यानी (Population II) का तारा है, तो इसके प्रकाश के गुण अन्य भारी तत्वों को भी दिखाएंगे। इस प्रकार के blue supergiant तारों के कुछ उदाहरण Rigel और Beta Centauri हैं।

Earendel’s Home in the Sunrise Arc

इस छवि में जो आप ये लम्बी लाइन देख रहे हैं वो और कुछ नही बल्कि इस तारे की मेजबान आकाशगंगा है, जो हमें प्रकाश के लंबे अर्धचंद्राकार धब्बे के रूप में दिखाई दे रही है। यह धब्बा WHL0137-08 नाम के एक विशाल galaxy cluster के gravitational lensing के चलते नजर आ रहा है। NIRCam से दिखाई दे रहे इस सुदूर आकाशगंगा के बारे में काफी detail प्राप्त हुई हैं। इस आकाशगंगा में ऐसी छोटी-छोटी जगह हैं जहां सितारों की अगली पीढ़ियां पैदा हो रही हैं। उनमें से कुछ तारे काफी युवा हैं, 50 लाख वर्षों से भी कम।

earendel most distant star discovered

आकाशगंगा में star clusters को भी देखा जा सकता है, जैसे-जैसे यह विकास कर रही है। उनमें से एक star cluster लगभग 1 करोड़ वर्ष पुराना है। यह अभी भी हमारे आधुनिक ब्रह्मांड में मौजूद हो सकता है।

यह क्लस्टर खगोलविदों को globular clusters के बारे में कुछ दिलचस्प सुराग देता है जो आज हमारी अपनी आकाशगंगा में भी फैले हुए हैं। इनमे से कुछ उसी समय बने हो सकते हैं जिस समय में WHL0137-08 में मौजूद ये distant clusters बने थे।

दिलचस्प बात यह है कि JWST की image दूर की इस आकाशगंगा पर lensing effect के बारे में ज्यादा detail को दिखाती है। Earendel तारा खुद lensing द्वारा उत्पन्न एक “ripple” के साथ मौजूद है।

और इस तरह यह अपनी मेज़बान आकाशगंगा की धुंधली image से अलग दिखाई देता है। NIRCam के अलावा, JWST के इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोमीटर (NIRSpec) ने भी Earendel का डेटा लिया। इस instrument ने खगोलविदों को एरेन्डेल और इसकी मेजबान आकाशगंगा की सटीक दूरी के बारे में ज्यादा जानकारी दी।

Using Gravitational Lensing for More Distant Stars

JWST ने अपने infrared-sensitive instruments का उपयोग करके और कुछ दुसरे दूर के तारों का पता तो लगाया है। पर अब तक, Earendel दूरी के मामले में रिकॉर्ड धारक बना हुआ है। लेकिन, अभी और भी कई observations की जानी बाकी हैं। आखिरकार, खगोल वैज्ञानिकों को ब्रह्मांड के अतीत में झांकते हुए, आज भी पहली पीढ़ी के तारों को देखने की उम्मीद बाकी है जो कभी पूरे ब्रह्मांड को रोशन किया करते थे।

earendel most distant star discovered

यह वह शुरुआती objects थे जो बिगबैंग के महज 10 करोड़ वर्षों बाद ही अस्तित्व में आ चुके थे। और मुमकिन है कि वे बेहद विशाल और चमकदार हुआ करते थे। जैसे ही वे Cosmic Dark Ages के धुंधलेपन से बाहर आने लगे, उन्होंने अपने आस-पास की गैसों को गर्म और आयनीकृत (ionized) कर दिया। जैसे-जैसे वे विकसित हुए और मरे, उन्होंने अपनी hydrogen-burning cores में भारी रासायनिक तत्वों का उत्पादन किया।

जब वह तारे मरे, तो उन्होंने उस material को पूरे ब्रह्मांड में फैला दिया, जिससे सितारों और अंततः ग्रहों की नई पीढ़ियों का निर्माण हुआ। पहली पीढ़ी के उन तारों के जीवन और जीवनशैली के सुबूत हमें शुरुवाती ब्रह्मांड कि सभी स्थितियों, matter का फैलाव (डार्क मैटर सहित) और cosmic time के शुरुआती युगों में आकाशगंगाओं के जन्म और विकास के बारे में बहुत कुछ बता सकते हैं।

Earendel Most Distant Star Discovered (Conclusion)

तो आज कि हमारी ब्लॉग पोस्ट में हमने Earendel Most Distant Star Discovered के बारे में जमसे वेब के चलते कुछ ऐसे नए तथ्यों को जाना जो शायद हबल टेलिस्कोप से उसकी सीमित सीमाओं के चलते छूट गए थे। Earendel तारा शुरुवाती ब्रह्मांड के कईं गहरे राज खोल सकता है। जेम्स वेब ने अपनी ऑब्जर्वेशंस को अभी शुरू ही किया है, कौन जानता है जेम्स वेब भविष्य में हमें ब्रह्मांड की और गहराइयों में ले जाते हुए Earendel तारे से भी ज्यादा दूरी पर मौजूद कोई तारा दिखा दे।

जो हमें सबसे शुरुआती तारों के बारे में कोई सुराग दे सके। खैर इसके लिए तो हमें और इंतजार करना होगा। एक ओर जेम्स वेब जहां नए-नए कीर्तिमान रच रहा है वहीं भारत का चंद्रयान 3 मिशन अब तक हैरतंगेज उपलब्धियां हासिल कर चुका है, chandrayaan-3 चांद के किन-किन रहस्यों पर से पर्दा उठा चुका है इसके बारे में जानने के लिए यहां क्लिक कीजिए।

You May Also Like

FAQ’s Related To Earendel Star

Que. एरेन्डेल तारा कहां है?

Ans. एरेन्डेल तारा एक विशाल बी-प्रकार का तारा है जो हमारे सूर्य से लगभग 10 लाख गुना अधिक चमकीला और दोगुने से भी अधिक गर्म है। तारा Sunrise Arc नामक आकाशगंगा में है और सिर्फ इसलिए देखने योग्य है क्योंकि WHL0137-08 नामक एक विशाल galaxy cluster जो पृथ्वी और एरेन्डेल के बीच मौजूद है, ने इस तारे और इसकी आकाशगंगा को बड़ा किया है।

Que. एरेन्डेल तारा किस चीज से बना है?

Ans. अभी इस बारे में ठीक-ठीक कह पाना थोड़ा मुश्किल है। बहुत हद तक मुमकिन है कि यह तारा Population II तारा हो, जिनमें हाइड्रोजन और हीलियम से थोड़े भारी तत्व मौजूद होते हैं। यह Population III तारा भी हो सकता है अगर यह Population III तारा निकला तो यह वह पहला तारा होगा जो ब्रह्मांड की उत्पत्ति के बाद सबसे पहले जन्मे तारों में से एक होगा।

Que. क्या एरेन्डेल तारा ब्रह्मांड से पुराना है?

Ans. एरेन्डेल तारे का जो प्रकाश हम तक पहुँच रहा है वह तकरीबन 12.9 से 13 अरब वर्ष पुराना है। और बिग बैंग के मुताबिक हमारा ब्रह्मांड 13.8 अरब वर्ष पुराना है जिससे यह तो साफ हो जाता है कि यह तारा हमारे ब्रह्मांड से पुराना नहीं है, लेकिन हां यह अब तक खोजा गया सबसे दूर मौजूद तारा जरूर है।

Hello, I am Pankaj Gusain from (Space Siksha) And (YouTube channel - Into The Universe With Pankk) I have been a content creator (Youtuber and blogger) Since 2017.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

दिखने जा रहा है सबसे दुर्लभ Blue Moon | full moon in august 2023 तारों से जुड़े ये 9 Facts आपका सर घुमा देंगे