5 सबसे अजीब सितारे जो ब्रह्मांड में खोजे गए | 5 Weirdest Stars In Space EP-2

Weirdest Stars In Space

नमश्कार दोस्तों! आज कि ब्लॉग पोस्ट में हम 5 Weirdest Stars In Space के बारे में जानेंगे। 5 और ऐसे सबसे अजीब तारे जिन्होंने वैज्ञानिकों को अपनी खोज के साथ हैरान परेशान कर दिया था। ये इस series कि हमारी दूसरी पोस्ट है। इससे पिछली पोस्ट में हम 5 और ऐसे सबसे अजीब तारों के बारे में जान चुके हैं।

Well! इस विशाल अंतहीन ब्रह्मांड में तारों का क्या महत्व है। ये हम सभी हमारे सूर्य कि मौजूदगी के चलते बहतर ढंग से जानते हैं। जो ऊर्जा और रौशनी के साथ यहाँ पृथ्वी पर सभी प्रकार के जीव जंतुओं के अस्तित्व के लिए जिम्मेदार है। ब्रह्मांड में मौजूद सभी तारे अपना जीवन लगभग एक जैसे ही शुरू करते हैं। लेकिन आकार और प्रकार यह अलग-अलग हासिल करते हैं। हम जानते हैं कि हमारा ब्रह्मांड ऐसे कईं अनगिनत सितारों से भरा पड़ा है।

पिछले कुछ दशकों में, खगोल विज्ञान के क्षेत्र में आई तकनीकी आधुनिकता के चलते, ब्रह्मांड में वैज्ञानिकों का सामना कुछ सितारों से भी हुआ है जो या तो अपनी खोज से पहले तक सिर्फ कल्पनाओं में ही मौजूद थे, या तो ये सितारे ऐसे थे जिन्होंने अपनी खोज के साथ शोधकर्ताओं को हैरान किया था। इस सीरीज की पिछली पोस्ट में हम पांच ऐसे ही अनोखे तारों के बारे में जान चुके हैं और आज हम भाग-दो में पांच और ऐसे ही तारों के बारे में जानेंगे जिनका अस्तित्व शोधकर्ताओं के लिए सर दर्द बन गया है।

तारे के अंदर तारा

साल 1975 में physicist Kip Thorne और astronomer Anna Zytkow ने ब्रह्मांड में एक ऐसे object के अस्तित्व कि बात रखी थी जिसमे एक तारे के अंदर दूसरा तारा भी मौजूद हो सकता है। इन objects का नाम इन्ही दोनों के नाम पर Thorne-Zytkow object (TZO) रखा गया। Thorne और Zytkow का कहना था कि ये TZO’s तब बनते हैं जब एक न्यूट्रॉन तारा एक लाल सुपरजायंट तारे द्वारा निगल लिया जाता है।

अब जैसा कि हम जानते हैं कि एक न्यूट्रॉन तारा मरे हुए विशाल तारों का ढहा हुआ कोर होता है। वहीँ एक लाल supergiant तारा एक बूढा तारा होता है जिसने कोर में अपने हाइड्रोजन इंधन को खत्म कर दिया होता है। वह इंधन जो fusion के चलते रौशनी और गर्मी पैदा करने के लिए सबसे जरुरी होता है। ये लाल सुपरजाइंट्स तारे ब्रह्मांड में सबसे बड़े तारे होते हैं जो हमारे सूर्य के आकार (व्यास में) से 2,000 गुना तक पहुँच सकते हैं।

अब कमाल कि बात ये है कि साल 2014 में खगोलविदों के मुताबिक, अब तक कल्पनाओं में रहा ये object हकीकत बनकर सामने आया था। उनका मानना था कि उन्होंने ऐसा एक object ढूंढ लिया है। इस तारे को उन्होंने HV 2112 नाम दिया। यह तारा हमारी पृथ्वी से लगभग 2 लाख प्रकाशवर्ष दूर Tucana नक्षत्र कि ओर Small Magellanic Cloud में मौजूद है। जो कि हमारी milky way आकाशगंगा कि एक satellite आकाशगंगा है।

Weirdest Stars In Space

HV 2112 एक बेहद चमकदार टिमटिमाता हुआ लाल supergiant तारा है। इसे TZO समझे जाने का मुख्य कारण था इसमें भारी मात्रा में कुछ ऐसे तत्वों का पाया जाना जो एक आम लाल supergiant तारे में नही पाए जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि तारे में लिथियम, मोलिब्डेनम और रूबिडियम तत्वों का असामान्य रूप से उच्च स्तर मौजूद था, ये ऐसे तत्व हैं जो वैज्ञानिकों के मुताबिक सिर्फ TZO द्वारा ही release किये जा सकते हैं।

हालांकि 2018 की एक बेहतर हुई स्टडी के मुताबिक इसमें ऐसे तत्वों के कोई सबूत नहीं मिले और इसकी चमक भी पहले अनुमानित चमक से कम निकली। इससे तारे के TZO होने की संभावना अब नहीं रह जाती है, इससे उलट इसके एक intermediate-mass (AGB) asymptotic giant branch तारा होने की ज्यादा संभावना है। जो विकसित और ठन्डे चमकदार red giant तारे होते हैं।

अब ऐसे में इस प्रकार के तारे हमारे लिए फिर से परिकल्पना लगने लगते हैं, लेकिन HV 11417 नाम का एक और तारा जो Small Magellanic Cloud (SMC) में ही मौजूद है। ये भी एक Thorne-Zytkow object (TZO) होने का उम्मीदवार है।

Weirdest Stars In Space

सबसे गोल तारा

हम अक्सर सोचते हैं कि ग्रह और तारे गोल होते हैं, जबकि ऐसा नहीं है। जब वे घूमते हैं तो centrifugal force के चलते वे अपनी equators पर थोड़े चौड़े हो जाते हैं। और ये स्थिति ब्रह्मांड में मौजूद लघभग हर तारे और ग्रह पर लागू होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं ब्रह्मांड में वैज्ञानिकों के हाथ एक ऐसा तारा लगा है जो अब तक खोजे गए सभी तारों और ग्रहों में सबसे गोल नेचुरल ऑब्जेक्ट है। हमारी पृथ्वी से लगभग 4,000 से 5,000 प्रकाश वर्ष दूर Cygnus नक्षत्र कि और Kepler 11145123 नाम का एक तारा है, जो ब्रह्मांड में इस समय मौजूद ज्ञात सबसे गोल प्राकृतिक वस्तु है।

आमतौर पर, अपनी धुरी पर किसी भी object के घूमने कि गति जितनी तेज़ होगी, तारा या ग्रह इक्वेटर पर उतना ही अधिक चौड़ा होगा। हमारी पृथ्वी भी पूरी तरह गोल नहीं है। और यहाँ तक कि हमारा सूर्य और ये तारा Kepler 11145123 भी पूरी तरह गोल नहीं हैं। हालाँकि, Kepler 11145123 तारा पूरी तरह गोल होने के बेहद करीब आता है।

Weirdest Stars In Space

पृथ्वी अपने ध्रुवों की तुलना में भूमध्य रेखा यानी equator पर तकरीबन 21 किलोमीटर चौड़ी है। उसी relative measurement का उपयोग करते हुए, सूर्य लगभग 10 किलोमीटर चौड़ा है और Kepler 11145123 तारा केवल 3 से 6 किलोमीटर चौड़ा है। यह बहुत करीब है पूरी तरह गोल होने के इसलिए ये तारा काफी प्रभावशाली है। Kepler 11145123 तारा इसलिए भी काफी प्रभावशाली निकल कर आता है क्यूंकि यह हमारे सूर्य के आकार का दोगुना है।

खगोलविदों का मानना है कि Kepler 11145123 तारे का व्यास उनके अनुमान कुछ किलोमीटर कम हो सकता है। इस Kepler 11145123 तारे का व्यास 32 लाख किलोमीटर (2 मिलियन मील) जितना तक है।

Weirdest Stars In Space

जुपिटर से भी छोटा तारा

हम अक्सर सितारों को बड़े और भारी पिंड मानते हैं, हालांकि हमेशा ऐसा नहीं होता है। ये बहुत छोटे भी हो सकते हैं, जैसे Saturn ग्रह के आकार जितने तक। वैसे पृथ्वी की तुलना में, Saturn एक विशाल ग्रह है: इतना कि इसमें लगभग 764 पृथ्वीयाँ समा जायेंगी।

हालाँकि, Saturn हमारे सूर्य के आकार से बहुत छोटा है। जिसमे लगभग 13 लाख पृथ्वियाँ समा जायेंगी। Saturn हमारे सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह Jupiter से भी छोटा है। आपको जानकार हैरानी होगी कि खगोलविदों ने पृथ्वी से लगभग 670 प्रकाशवर्ष दूर Pictor नक्षत्र कि ओर एक ऐसे तारे की खोज की जो लगभग Saturn के आकार का है। यह एक triple star system का हिस्सा है। जिसमे इससे अलग 2 सूर्य जैसे तारे भी मौजूद हैं। यह तारा EBLM J0555-57Ab नाम से जाना जाता है।

Weirdest Stars In Space

इस तारे का द्रव्यमान Jupiter के द्रव्यमान से जहाँ 85 गुना तक है तो Saturn से 250 गुना तक है। वैज्ञानिकों के मुताबिक Current stellar models में इस तारे का द्रव्यमान सबसे निचली सीमा पर है जो hydrogen-burning को support करता है। अगर इसका द्रव्यमान थोड़ा भी और काम होता तो यह अपनी कोर में न्यूक्लियर फ्यूजन को सपोर्ट नहीं कर पाता। और बस, इससे ये तारा सबसे छोटे hydrogen burning star का रिकॉर्ड भी अपने नाम रखने में कामयाब होता है।

Weirdest Stars In Space

जुड़वां तारों के साथ दूसरा जुड़वां

Lyra नक्षत्र कि ओर हमारी पृथ्वी से करीबन 160 से 162 प्रकाशवर्ष दूर एक multiple star system मौजूद है। ये एक fascinating star system है। ये है Epsilon Lyrae, और ये The Double Double नाम से भी जाना जाता है। ये पृथ्वी से देखे जाने पर एक आम binary system जैसा ही लगता है। जिसमे 2 तारे एक दूसरे का चक्कर लगाते हुए दिखते हैं। लेकिन बहुत करीब से देखने पर नजर आता है कि इन दोनों तारों का खुद का भी एक-एक साथी तारा है। जिसमे हर जोड़ा दूसरे जोड़े की भी परिक्रमा करता है। नतीजतन, सिस्टम में एक बाइनरी के अंदर दो बायनेरिज़ हैं।

पृथ्वी से, हर तारों का ये जोड़ा एक साथ इतना करीब दिखता है कि हम में से कईं लोग, हर सेट में दोनों तारों को एक तारा समझने कि गलती कर सकते हैं। जबकि हर सेट में दोनों भी तारे एक दूसरे से इतनी दूर हैं कि इन्हें एक दूसरे के चारों ओर एक परिक्रमा पूरी करने में लगभग 1000 साल लग जाते हैं।

Weirdest Stars In Space

जबकि ये binaries खुद भी बहुत दूर हैं। दोनों सेटों के बीच की दूरी पृथ्वी और सूर्य के बीच की दूरी से 10,000 गुना अधिक है। जिसके चलते binaries को एक दूसरे के चारों ओर एक चक्कर पूरा करने के लिए लगभग 500,000 वर्ष तक लग जाते हैं।

दिलचस्प बात यह है कि खगोलविदों ने इस system में एक पांचवें तारे की भी खोज की है जो इन stellar pairs में से एक stellar pair की परिक्रमा करता है। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों का यह भी मानना है कि Epsilon Lyrae में दूसरे अनदेखे तारे भी परिक्रमा कर रहे हो सकते हैं। कुल मिलाकर, खगोलविदों का मानना है कि इस star system में 10 तारे तक शामिल हो सकते हैं।

Weirdest Stars In Space

बेहद लम्बी पूँछ वाला तारा

जब हम space में tails यानी पूंछों के बारे में सोचते हैं, तो हम आमतौर पर धूमकेतुओं की कल्पना करते हैं। लेकिन मीरा नाम का एक तारा (“अद्भुत”) हमें गलत साबित करने के लिए ब्रह्मांड कि गहराईयों में मौजूद है। यह तारा हमारी पृथ्वी से 350 प्रकाश वर्ष दूर Cetus नक्षत्र में मौजूद है और हाँ ये भी एक binary star है। जिसमे एक तारा red giant है जिसे Mira A कहा जाता है, और दूसरा एक सफेद बौना तारा है जिसे Mira B कहा जाता है। जैसा कि हम जानते हैं कि red giant एक तारे कि आखरी stage होती है। ये एक मरता हुआ तारा होता है, जबकि एक सफेद बौना तारा पहले से ही किसी मरे हुए तारे कि कोर होता है।

Weirdest Stars In Space

खगोलविदों ने ultraviolet रौशनी में ब्रह्मांड की जांच करते समय इन binary तारों का पता लगाया था। उन्होंने पाया कि कुछ धूमकेतुओं ने दूर अंतरिक्ष में एक बहुत लंबी पूँछ छोड़ी हुई थी। जब उन्होंने इस पूँछ कि जांच कि तो उन्होंने पाया कि ये दायरे में तरीबन 13 प्रकाश वर्ष जितनी तक लंबी पूँछ थी। यह प्लूटो और सूर्य के बीच की औसत दूरी का 20,000 गुना है। जिससे खगोल वैज्ञानिकों की दिलचस्पी इस और बढ़ी। हालाँकि, उन्हें जल्द ही पता चला कि यह पूंछ दरअसल एक लाल विशाल Mira A तारे से आ रही थी।

इस पूंछ की जांच करने पर पता चला कि, पूंछ कार्बन और ऑक्सीजन सहित कई तत्वों को बहा रही है, जिसके बारे में खगोलविदों का मानना है कि इससे नए सौर मंडल का निर्माण हो सकता है। Mira A तारा 30,000 से ज्यादा वर्षों से इन तत्वों को interstellar space में बहाता जा रहा है।

Weirdest Stars In Space

Conclusion: Weirdest Stars In Space (निष्कर्ष)

Well तो ये थे पांच और ऐसे तारे जो दर्शाते हैं कि ब्रह्मांड हमारी कल्पनाओं से बंधा हुआ नहीं है यह उस से भी कईं पर है। हम इसे पूरी तरह से समझ लेने का दवा नहीं कर सकते, ये हमें हमेशा चौंकाने के लिए तैयार है। आपको इन पांचो तारों में से किसी तारे ने सबसे ज्यादा हैरान किया नीचे कमेंट सेक्शन में आप अपने विचार मेरे साथ शेयर कर सकते हैं।

You May Also Like

फिलहाल के लिए आज के इस पोस्ट में इतना ही, अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई है तो लाइक और शेयर कर दीजिए अपने दोस्तों के साथ। मैं मिलता हूं अब आपसे एक और नई पोस्ट में एक नए टॉपिक के साथ तब तक के लिए ख्याल रखिएगा अपना बाय गाइस, टेक केयर, जय हिन्द।

Hello, I am Pankaj Gusain from (Space Siksha) And (YouTube channel - Into The Universe With Pankk) I have been a content creator (Youtuber and blogger) Since 2017.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment

दिखने जा रहा है सबसे दुर्लभ Blue Moon | full moon in august 2023 तारों से जुड़े ये 9 Facts आपका सर घुमा देंगे